बुधवार, 6 मई 2015

छोटी ...

तुम मेरी दुआ में नहीं
तुम सुख में नहीं
तुम दुःख में नहीं
तुम दिल भी नहीं
तुम धड़कन भी नहीं

तो बता मुझे तू
तू दिन रात मेरे
ख्यालों में क्यों ???

मै इन ख्यालों से दूर
तेरी शख्सियत से
बहुत दूर जाना चाहती हूँ
तेरी रूह से अलग
 अपने हिस्से की  जमीं
ढूँढना चाहती हूँ ....

पर कमबख्त ये दिल
सोते जागते
तेरे नाम की
माला जपा करता है
पता नहीं क्यों
तेरी ही बातों से
मायूस होता है
फिर मासूम सा बन
तेरी ही याद में
हर रोज़ पलके
भिगोया करता है.....


तेरे साथ बिताये
वो सुनहरे पल
अब कभी नहीं आयेंगे
पर न चाहते हुए भी
तेरी याद से सराबोर

    "मैं "

 तेरी ही याद में
अतीत के आँगन से
कुछ फूल चुन
अपनी छोटी सी
बगिया में सजाती हूँ ।।

और उन यादो से
न जाने कैसे
 तुम मेरी दुआ में
सुख में  ,  दुःख में
 दिल  में , आत्मा में
उतर जाती हो  ।।
                          ~ बोधमिता


छोटी


रविवार, 25 जनवरी 2015

क्रोध.....

टिक टिक कर समय
अपनी गति से चल रहा था 
समय बताती छोटी सुइयाँ 
बिना रुके बिना थके 
एक ही रफ़्तार से 
चलती ही जा रही थी 
उनके नाजुक कंधो पर
संसार को चलाने की 
जिम्मेदारी जो थी 
उन्हें कहाँ पता था 
हम दोनों  एक दूसरे को 
टक - टकी  लगाये 
देख रहे हैं चुप - चाप
क्रोधाग्नि हम दोनों के  
अंदर जल रही है
और हम है मौन 
सन्नाटा तोड़ने का 
साहस हम दोनों के 
पास नहीं .…… ;
विचारों  की आँधी  में 
हम  काल चक्र 
रोक लेना चाहते हैं,'
हमारे साथ खड़े हैं 
बहुत से विरोधाभास
जो चुप्पी तोड़ने के लिए 
मचल से रहे हैं 
विरोध से बस 
क्रोध ही उत्पन्न होता है 
क्रोध को पी जाना ही 
मनुष्यता है  
मैने अपने मौन को 
साध रखा है 
तुम भी साधोगे न 
अपना  मौन …… .  । 
~ बोधमिता ~ 

  

  
  

गुरुवार, 22 जनवरी 2015

ख्वाब












तुमको भीड़ में मिलाने की
बहुत कोशिश कर ली मैंने
सोचा था लोगो में खो कर
इतने न याद आओगे तुम
तुम्हारे ख्यालो को मैंने
बंद करना चाहा तालों में
और … 
सोच लिया अब तुम फिर-
 न आओगे मेरे ख्यालो में
पर तुम हर बार ही दस्तक
दे - दे कर
मन प्राण ही मेरे हरते हो
जब भी अकेली होती हूँ
खुद में……
प्रतिबिंब तुम्हारा पाती  हूँ

ख्वाब सी लगती तेरी बातें 


मैं खुद परी बन जाती हूँ
फिर सुध - बुध खो इस
 दुनिया से
तेरे - मेरे सपने बुनती हूँ
जब टूटे भरम तो फिर से मैं
तुझको भीड़ में मिलाने की
नाकाम सी कोशिश करती हूँ .......
                   ~ बोधमिता ~