गुरुवार, 24 जनवरी 2013

मलाला

मलाला आज नाम है 
एक वीरता का 
एक साहस का 
जिसने  दिखाया 
दुनिया को -
भले लगी हो 
गोली सर पर 
न झुकने वाली हूँ 
न रुकने वाली हूँ 
शांति दूत सी वो 
करती है सामना 
ना अस्त्र से 
ना शस्त्र  से 
वह लडती है 
अधिकार से 
शिक्षा पर हक 
है सभी का 
नर  -नारी में
 अंतर क्यूँ? 
तालिबानियों
 अब तो समझ लो 
छोडो अपनी
 सनको को 
वर्ना होगा तुमको 
मलाल क्यूंकि 
आने वाली
 हर लड़की 
होगी तुम्हारे
 लिए मलाला ।।
         ~बोधमिता 

बुधवार, 23 जनवरी 2013

छुट्टी

अनुशासन भंग कर
मन को कल्पना लोक के
उस जगत तक पहुचाना
जहाँ अंकुश ना हो
जहाँ हो हल्ला
रेलम-पेल
भागम - भाग
धमा - चौकड़ी
और हो  बन्धनों से
निकल छूटने की
आजादी
आनंद ही आनंद!
यही तो होता है
छुट्टी का अर्थ
है ना ।। 

शनिवार, 19 जनवरी 2013

विडम्बना

नियति चक्र न रुका कहीं 
विडम्बना ही सही
चलती रही जीवन की गति 
कुछ टूटी सी कुछ फूटी सी 
कुछ उसके संस्कारों सी 
कुछ उसकी पहचानी सी
चल ही रही है मेरी 
अधकचरी सी जीवनी 
बिन जीवनदायिनी के..........
माँ ....
अनंत की यात्रा पर 
कर लेना तुम मुझको याद 
देना आशीष मुझे वहीँ से
जिससे ये जीवन हो जाये 
"निष्पाप"।।
                 ~बोधमिता